सोया ग्रह

Image

कभी कभी जन्मकुंडली में अपवाद देखने को मिलते हैं |
हमारे अम्बाला के एक पंडित जी से मेरी बात चल रही थी उनकी जन्मकुंडली में गुरु कर्क राशि में नौवें घर में है | गुरु कर्क राशि में उच्च का होता है | उच्च का गुरु राजयोग बनाता है | यदि केंद्र में उच्च का गुरु में हो तो पञ्च महापुरुष में से एक हंस नामक योग बनता है | इस योग में मकान, वाहन, ऐश्वर्य, यश और प्रतिष्ठा आदि सभी कुछ जातक को उपलब्ध होता है | परन्तु इन सभी चीजों के लिए पंडित जी आज तक तरस रहे हैं | विद्वान हैं इनका गणित अच्छा है ज्ञान की कोई कमी नहीं है परन्तु यह सब होने के बावजूद हंस योग कहाँ खो गया समझ में नही आता |
कुंडली को और ध्यान से देखने पर पता चला की गुरु के अंश भी २१ हैं यानी यहाँ भी कोई कमी नहीं है | गुरु की महादशा आकर चली गई परन्तु कुछ ख़ास फल नहीं मिला |

परन्तु इन बातों का सीधा सा जवाब वैदिक ज्योतिष में है भी नहीं | कम से कम मुझे तो इसका ज्ञान नहीं है | परन्तु यदि लाल किताब में इस विषय में बहुत आसान सा नियम है | यदि कोई ग्रह अकेला है और उस पर किसी ग्रह की कोई दृष्टि नहीं है तो उस ग्रह को सोया ग्रह कहते हैं |
सोया ग्रह उच्च राशि में हो या नीच राशि में, उसका कोई फल जातक को नहीं मिल पाता | सोया ग्रह राजयोग को निगल लेने में सक्षम होता है |
सुप्त ग्रह लग्न में हो तो व्यक्ति अपने शरीर से बहुत परेशान रहता है | या तो बहुत मोटा या बहुत पतला या फिर काय ऐसी हो जाती है कि व्यक्ति सुन्दर लोगों को देखते ही हीन भावना से घिर जाता है |
दुसरे घर में सोया ग्रह हो तो पैसा कितना भी आ जाए उस पैसे का उपयोग व्यक्ति स्वयं नहीं कर पाता | उस पैसे का भोग दूसरे व्यक्ति करते हैं |
तीसरे घर में सोया ग्रह हो तो व्यक्ति हर काम में बुरी तरह असफल रहता है | कोई भी काम बिना रुकावट के नहीं हो पाता | मित्रों से बार बार धोखा मिलता है |

चौथे घर में कोई सोया ग्रह हो तो माता पिता का सुख व्यक्ति को न के बराबर मिलता है | कोई जमीन मकान या प्रापर्टी बरसों तक ऐसे ही पड़ी रहती है उसका कोई उपयोग नहीं हो पाता | न बिकती है न उस पर कोई construction होती है |
पांचवें घर में कोई सोया ग्रह हो तो प्रेम में बार बार धोखा मिलता है | सच्चे प्रेम को तवज्जो नहीं मिलती | पढ़ाई लिखाई भी किसी काम नहीं आती | व्यर्थ में व्यक्ति अपनी मेहनत की कमाई को लुटा देता है | नालायक संतान होती है और संतान के भविष्य की चिंता सदैव बनी रहती है |
छठे घर में सोया ग्रह हो तो व्यक्ति लम्बे समय तक बीमार रहता है या बीमार की सेवा करता है | घर में से दवैया ख़त्म होने का नाम नहीं लेती और बीमारी, इलाज, अस्पताल का मुह रोज देखने को मिलता है | अस्पताल में नौकरी या दवाई की फेक्ट्री में ऐसे ही व्यक्ति काम करते देखे गए हैं |
सुप्त ग्रह या सोया ग्रह यदि सातवें घर में है तो शादी के लिए जीवन का एक हिस्सा गुजर जाता है और शादी की तमन्ना भी ख़त्म हो जाती है |
आठवें घर में कोई ग्रह सोया हो तो विदेश में बरसों भटकने के बावजूद व्यक्ति को कुछ प्राप्त नहीं होता | व्यक्ति का मृत्यु से बार बार साक्षात्कार होता है परन्तु उम्र लम्बी होती है |

नौवें घर में सोया ग्रह हो तो बहुत धर्म कर्म करने के बावजूद व्यक्ति को उसका फल नहीं मिलता | पूरी उम्र व्यक्ति धार्मिक रहता है परन्तु पूजा पाठ का पूरा फल कभी नहीं मिलता | भाग्य की जहाँ जरूरत होती है वहां कुछ न कुछ उल्टा हो जाता है | व्यक्ति सफलता से एक कदम हमेशा पीछे रहता है |

दसवें घर का सोया ग्रह व्यक्ति को आलसी बना देता है | या तो नौकरी ऐसी होगी जहाँ समय न कटे या फिर ऐसी जगह व्यक्ति काम करता है जहाँ से भागने को मन करे | व्यक्ति लम्बे समय तक बोरियत महसूस करता है |
ग्यारहवें घर में सोया ग्रह हो तो व्यक्ति का जीवन अशुभ समाचार से भर जाता है | आय इतनी होती है जिससे केवल गुजारा चल सके |
बारहवें घर में सोया ग्रह व्यक्ति की नींद उड़ा देता है | नींद में कमी या दिन में भी नींद जैसी स्थिति होती है | व्यक्ति रोज बुरे स्वप्न देखता है | पैर में बार बार चोट लगती है बल्कि एक ही जगह पर कई बार जख्म होता है | कोई दोस्त या रिश्तेदार षड्यंत्र रचता है जिसमे व्यक्ति फंस जाता है या फिर किसी अपने से बहुत बाधा धोखा होता है | व्यक्ति को अपने साथ होने वाली घटनाओं का अंदेशा नहीं होता |

सोया ग्रह हमेशा सोया ही रहे ऐसा नहीं है परन्तु उसे जगाने के ग्रह योग कुंडली में होने आवश्यक हैं | यदि इस विषय पर पाठकों के कोई सुझाव या प्रश्न हैं तो अपने अवश्य अनुभव भेजें |
अशोक प्रजापति |

 

Source

Advertisements

Delay in Marriage ?

Image

Delay in Marriage – What Astrology Says – शादी में देर ? क्या कहती है आपकी कुंडली

Delay in marriage is commonly asked question. It is not possible to answer all queries So I am providing some important knowledge to my readers regarding marriage delays as per astrology. You will  learn what planets are responsible for delay in marriage as per astrology. I hope readers will be benefited.

Delay in Marriage as per astrology for Girls:

Each parent wants her daughter to get marry soon and with a suitable groom. Those who are getting delay in their marriage, must show their horoscope to an experienced astrologer and find out the reason behind it.

First of all do a remedy for that reason. Jupiter is husband in female horoscopes. Most likely if your Jupiter is conjuncted with Rahu or Ketu or Saturn, the marriage gets delayed.

Everyone knows about Manglik Yog. If your Mars is in 1st house of horoscope, 4th, 7th, 8th or 12th house of horoscope, it affects the 7th house & married life of native.

See in picture.

Image

Due to Manglik Dosha or Manglik Yoga people face difficulties to find best match & marriage delay becomes critical. In such situation people have to compromise with their fate. Sometimes they marry with double mind & sometimes they never get good marriage proposals. This situation becomes more critical if they marry with non Manglik partner.

It is not that every Manglik person would have problems in married life but it has been observed the Manglik person gets delayed for marriage.

Some exceptional cases are there when Manglik Dosha does not matter. Below is the horoscopes of Bollywood Film Star Amitabh Bacchan & his wife Jaya Bacchan.

Image

Shri Amitabh Bacchan is Manglik but the Manglik Dosha intensity is low due to Saturn position in 4th house. If Saturn is also in 1,4,7,8,12th house this is considered as Manglik Dosha Pariharam. But Mrs. Bacchan’s Jupiter is in 7th house which is more powerful than Mr. Bacchan’s Manglik Dosha. So if you are manglik & your partner is not, just look for Pariharam if you want to marry with your partner.

Marriage Delay Solution

Whatever the reason is for your marriage delay, there are some mantras that can be really helpful to get married. For example the Jupiter Beej mantra is being shared below…

Jupiter Beej Mantra in Hindi

ॐ ग्रां ग्रीं ग्रों स: गुरवे नमः

Jupiter Beej mantra in English

Aum Gran Grin Gron seh Gurve namah:

How to use this mantra

Starting from any Thursday, you have to chant this mantra 108 X 5 = 540 times daily in the morning time. Chant this mantra in Morning time & lit a lamp among banana tree after offering water on every Thursday. Within 40 days you will have great marriage proposals. You will get a handsome, educated & suitable groom.

Delay in marriage as per astrology for Men

Many technical reasons can be find like the following…

  • If Lord of Seventh house and Saturn are conjunction-ed.
  • Lord of seventh house is in wretched.
  • Venus in exalted / wretched.
  • Venus is with Sun / Rahu or Mars.
  • Venus in 3rd, 6th house in the horoscope.
  • Saturn position in 7th house.
  • Saturn’s sight is in the seventh house.
  • Rahu’s sight is in the seventh house.
  • Mars’s sight is in the seventh house or Manglik Yoga.
  • Or Venus, Lord of Seventh house are weak in horoscope.
  • If seventh house of horoscope is surrounded by Sun, Rahu, Saturn, Mars or Ketu.

Whatever the reason is in horoscope for marriage delay, the mantra given below would help in any situation.

In Hindi

पत्नी मनोरमा देहि मनोवृत्तानुसारिणीम |

तारिणीम दुर्ग संसार सागरस्य कुलोद्भ्वाम ||

Patni Manorama Dehi Mano Vritta Nusaari neem
Taarineem Durg Sansaar Saagrsya Kulodbhavaam

Starting from any Friday chant this mantra minimum 108 X 3 = 324 times a day. No need to do anything else. Just keep chanting this mantra for 40 days. You will get a beautiful wife, doesn’t matter what planets are in your horoscope. This mantra is tested many times by my followers. If you want to listen this mantra in my voice, you can call me, I believe if you are not chanting with correct accent / pronunciation, you should not do this.

I have more remedies for marriage delay. If you are also getting delayed for marriage or you have any question related to your married life, just bookmark this page, fill the form below & press submit. I will always help the needful.

 

Source

Will he ever marry me?

Image

Most people who asks this questions, are true lovers. It means you love him and he don’t care or you don’t know he will marry you or not. But astrology have the answer. Just open the horoscope of your partner and let’s analyze if he will marry you or not.

Jupiter is known for honesty and justice and Rahu is the dishonesty and injustice. Both planets are opposite to each other.

Jupiter is only planet who encourage you to speak the truth, to fulfill the promises and to keep patience in relationship. Jupiter gives discretion so keep your faith in relationship. Jupiter is the only planet who bless you with caring nature. For all good qualities in a person, Jupiter is responsible. If Jupiter is strong in your horoscope, you will be able to prove your words. If its not good in your horoscope, you will remain in compulsion.

On the other hand, Rahu make the people clever. Especially if your Rahu is in Ascendant or 5, 9th house of your horoscope, you do the promises and the time of action you will give the reason. Rahu always generates the reasons. Rahu lies like truth.

If the Jupiter in your partner’s horoscope, sitting with Rahu, he will not be able to marry you because he is helpless. If Jupiter is alone anywhere in the horoscope, you will be owner of your own free will. You cannot escape, cannot cheat and cannot break the promises.

style=”display:inline-block;width:300px;height:250px”
data-ad-client=”ca-pub-7125647774401242″
data-ad-slot=”1654195569″>

There are many other ways to find out will he marry you or not but they are all technical.

Like if I have to see will he marry you or not, I will match horoscope both of you. If the lord of 5th house (Love) have any concern with the lord of 7th house (Marriage) you have the chances of love marriage. This is first hard rule. If your 5th house have retrograde Venus, you will have love marriage. If you both have planetary exchange of Venus, Jupiter and Mars, you both will chances of marriage together.

Many other rules are cannot be explained here due to very technical reasons.

If you are trying to find it out yourself, you can follow the above simple rules of horoscope.

 

 

Source

ये हैं अच्छी नौकरी के लिए कुछ ख़ास योग

Image

आराम की नौकरी, अधिकार, प्रभुसत्ता और अच्छी तनख्वाह के लिए जरूरी है कि व्यक्ति में काबिलियत भी हो | परन्तु कभी कभी कुछ लोग ऐसे भी देखने को मिलते हैं जिन्हें अच्छी नौकरी के लिए ख़ास मशक्कत नहीं करनी पड़ती | कुछ लोगों की कुंडली में राजयोग होता है जिसमे आप सुख सुविधा के साथ आजीविका चलाते हैं | आपको अधिकार मिलता है | वैसे अधिकतर लोगों की कुंडली में किसी न किसी तरह का राजयोग अवश्य होता है परन्तु कुछ लोगों के जीवन में राजयोग का फल उस समय मिलता है जब इसकी सबसे अधिक आवश्यकता होती है | और कुछ लोगों के जीवन काल में राजयोग उस समय आता है जब इसकी कोई आवश्यकता शेष नहीं रह जाती | दशा अन्तर्दशा के अनुसार राजयोग की अवधि होती है | यह अवधि उस ग्रह की दशा और अन्तर्दशा पर निर्भर करती है |

आइये जानते हैं कुछ ऐसे योगायोग के बारे में जो किसी किताब से न लेकर मैंने स्वयं लोगों के जीवन से संकलित किये हैं | कुछ ऐसे ग्रह योग जो यदि आपकी या आपके बच्चों की कुंडली में हैं तो नौकरी की और से चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं होगी |

 लग्न से दसवां घर नौकरी के लिए देखा जाता है परन्तु मैंने अनुभव में पाया है कि दसवें घर से भी महत्वपूर्ण कुंडली का द्रेश्कोंन चक्र होता है | इसी स्थान से पता चलता है की आजीविका क्या होगी |

दसवें घर में उपस्थित ग्रहों नौकरी पर पूरा प्रभाव पड़ता है परन्तु दसवें घर में बैठे ग्रहों की अपेक्षा दसवें घर में जो राशि होती है उस राशि के स्वामी ग्रह पर निर्भर करता है कि नौकरी कैसी होगी | नौकरी कब मिलेगी और नौकरी के लिए किस क्षेत्र में प्रयास करना चाहिए |

 बच्चों की पढ़ाई के विषयों का चयन करते समय यदि दशम भाव पर दृष्टि डाल ली जाए तो सहज ही पता लगाया जा सकता है कि कौन सा विषय उपयुक्त रहेगा | जैसे कि बुध दशम भाव में हो तो अकाउंट के क्षेत्र में और मंगल दशम में हो तो मेडिकल के क्षेत्र में जातक की शिक्षा सार्थक होती है |

दसवें घर का सम्बन्ध यदि नौवें घर से हो तो यह एक प्रबल राजयोग होता है | जातक की नौकरी सुरक्षित होती है | जीवन में नौकरी या व्यवसाय के विषय में व्यक्ति को धक्के खाने की नौबत नहीं आती | इसी तरह दसवें घर का सम्बन्ध पांचवें घर से हो तो यह भी राजयोग है | दसवें घर का सम्बन्ध ग्यारहवें घर से हो तो व्यक्ति पैसे से पैसा कमाता है | यानी कारोबार में व्यक्ति सफल रहता है |

दसवें घर में बैठे ग्रह का या दसवें घर के स्वामी ग्रह का स्थान परिवर्तन यदि किसी ग्रह के साथ हो जाए तो यह सरकारी नौकरी का योग बनता है | इस सम्बन्ध में पचास से अधिक सरकारी अफसरों की कुंडलियों का अध्ययन किया गया तो इकहत्तर फीसदी लोगों की कुंडली में यह योग देखा गया | अभी शोध जारी है |

दसवें घर का स्वामी यदि केतु के साथ हो तो जीवन में एक बार व्यक्ति शिखर तक जरूर पहुँचता है बशर्ते कि केतु अस्त न हो |

दसवें घर में चार या चार से अधिक ग्रह हों तो व्यक्ति को नौकरी की बजाय बिजनेस में अधिक सफलता मिलने की संभावना रहती है |

दसवें घर का सम्बन्ध आठवें घर से हो तो व्यक्ति विदेश में धन कमाता है |

दसवें घर में कोई ग्रह न हो और दसवें घर का स्वामी भी अकेला, दुर्बल या शक्तिहीन हो तो इसका यह अर्थ नहीं कि व्यक्ति जीवन में कुछ नहीं करेगा और यह भी जरूरी नहीं की यदि दशम भाव में कोई ग्रह हो तो अवश्य ही नौकरी मिलेगी | ग्रहों के बलाबल पर यह निर्भर करता है कि जातक का काम धंधा क्या होगा |

 इसी तरह नक्षत्रों के आधार परभी राजयोग बनते हैं जो अधिक प्रभावी सिद्ध होते हैं |

यदि नौवें और दसवें घर, नौवें और पांचवें घर, दसवें और ग्यारहवें घर के ग्रह में से कोई भी दो ग्रह आपस में नक्षत्र परिवर्तन कर रहे हों तो इस आधार पर बनने वाला राजयोग अत्यंत शक्तिशाली होता है |

राजयोग का फल कब ?

राजयोग उस ग्रह की महादशा / अन्तर्दशा में प्रकट होता है जो राजयोग का निर्माण कर रहा हो | इसके अतिरिक्त जब सम्बंधित ग्रह जन्म लग्न में जिन अंश स्थिति में हो उसी अंशों पर फिर से जब गोचर भ्रमण करे तो भी अपना फल देता है | उदाहरण के लिए शनि यदि राजयोग कारक है और जन्मकुंडली में शनि बीस अंश पर है तो जब जब गोचर में शनि बीस अंशों पर होगा वह समय जातक के लिए अत्यंत कल्याणकारी सिद्ध होगा | इसके अतिरिक्त और भी कई नियम हैं जिनका उल्लेख यहाँ करना अत्यंत कठिन है |

संक्षेप में इतना ही कहूँगा कि जन्मकुंडली सैंकड़ों योग ऐसे होते हैं जिनसे राजयोग बनते हैं परन्तु ग्रहों का काल सीमित समय के लिए होता है | जन्मकुंडली द्वारा सहज ही पता लगाया जा सकता है की अनुकूल समय कब आएगा |

 

Source

सपने में बारिश देखना

Image

यदि आप स्वप्न में बारिश देखते हैं, पानी बरसता हुआ दिखाई दे तो समझ लें कि कुछ न कुछ अच्छा होने वाला है | जिस दिन स्वप्न में बारिश दिखाई दे उससे केवल एक महीने के भीतर कोई शुभ समाचार मिलता है |

इस सम्बन्ध में किये गए शोध में हमने जाना कि बारिश का स्वप्न अक्सर तब आता है जब शनि, गुरु या मंगल में से कोई एक ग्रह जन्म राशि से ग्यारहवें घर में आता है | ग्यारहवें घर में कोई ग्रह आने पर सुख संपत्ति, धन धान्य और शुभ समाचार आदि मिलते हैं |

जरूरी नहीं है कि सभी लोगों को बारिश का स्वप्न दिखाई दे परन्तु जिसे बारिश होते स्वप्न में दिखाई दे उसे अवश्य ही आने वाले दिनों में कुछ अच्छा होने की उम्मीद करनी चाहिए |

 

Source

When will i get married

Image

If you are seeking for marriage and your marriage is getting delayed, your horoscope tell the reason. If you believe in astrology, just analyze your horoscope yourself.

I have some very easy methods by your horoscope to find out when will you get married. You can follow these simple rules whether you have knowledge of astrology or not.

In horoscope there are total 12 houses. 1st house is of yourself and in front of 1st house this is 7th house which is of your marriage, life partner.

We analyze everything about marriage by 7th house of horoscope.

Venus, Mercury, Jupiter and Moon are all benefic planets. If you have one of these sitting in the seventh house of horoscope, obstacles automatically disappear in the way of your marriage.

But if any other planet is also with one of these planet in 7th house of horoscope, Marriage is definitely in disruption. Rahu, Mars, Saturn and Sun all these are malefic planets.

Any relationship of all these planets with 7th house will not auspicious for marriage or conjugal. Yet to predict the position of the planets and their Zodiac positioning is necessary to consider.

If you want to get in more details I have written detailed article on my blog about it. Click here to read all about marriage delay and age of marriage as per astrology.

 

Source

सोया ग्रह

Image

कभी कभी जन्मकुंडली में अपवाद देखने को मिलते हैं |
हमारे अम्बाला के एक पंडित जी से मेरी बात चल रही थी उनकी जन्मकुंडली में गुरु कर्क राशि में नौवें घर में है | गुरु कर्क राशि में उच्च का होता है | उच्च का गुरु राजयोग बनाता है | यदि केंद्र में उच्च का गुरु में हो तो पञ्च महापुरुष में से एक हंस नामक योग बनता है | इस योग में मकान, वाहन, ऐश्वर्य, यश और प्रतिष्ठा आदि सभी कुछ जातक को उपलब्ध होता है | परन्तु इन सभी चीजों के लिए पंडित जी आज तक तरस रहे हैं | विद्वान हैं इनका गणित अच्छा है ज्ञान की कोई कमी नहीं है परन्तु यह सब होने के बावजूद हंस योग कहाँ खो गया समझ में नही आता |
कुंडली को और ध्यान से देखने पर पता चला की गुरु के अंश भी २१ हैं यानी यहाँ भी कोई कमी नहीं है | गुरु की महादशा आकर चली गई परन्तु कुछ ख़ास फल नहीं मिला |

परन्तु इन बातों का सीधा सा जवाब वैदिक ज्योतिष में है भी नहीं | कम से कम मुझे तो इसका ज्ञान नहीं है | परन्तु यदि लाल किताब में इस विषय में बहुत आसान सा नियम है | यदि कोई ग्रह अकेला है और उस पर किसी ग्रह की कोई दृष्टि नहीं है तो उस ग्रह को सोया ग्रह कहते हैं |
सोया ग्रह उच्च राशि में हो या नीच राशि में, उसका कोई फल जातक को नहीं मिल पाता | सोया ग्रह राजयोग को निगल लेने में सक्षम होता है |
सुप्त ग्रह लग्न में हो तो व्यक्ति अपने शरीर से बहुत परेशान रहता है | या तो बहुत मोटा या बहुत पतला या फिर काय ऐसी हो जाती है कि व्यक्ति सुन्दर लोगों को देखते ही हीन भावना से घिर जाता है |
दुसरे घर में सोया ग्रह हो तो पैसा कितना भी आ जाए उस पैसे का उपयोग व्यक्ति स्वयं नहीं कर पाता | उस पैसे का भोग दूसरे व्यक्ति करते हैं |
तीसरे घर में सोया ग्रह हो तो व्यक्ति हर काम में बुरी तरह असफल रहता है | कोई भी काम बिना रुकावट के नहीं हो पाता | मित्रों से बार बार धोखा मिलता है |

चौथे घर में कोई सोया ग्रह हो तो माता पिता का सुख व्यक्ति को न के बराबर मिलता है | कोई जमीन मकान या प्रापर्टी बरसों तक ऐसे ही पड़ी रहती है उसका कोई उपयोग नहीं हो पाता | न बिकती है न उस पर कोई construction होती है |
पांचवें घर में कोई सोया ग्रह हो तो प्रेम में बार बार धोखा मिलता है | सच्चे प्रेम को तवज्जो नहीं मिलती | पढ़ाई लिखाई भी किसी काम नहीं आती | व्यर्थ में व्यक्ति अपनी मेहनत की कमाई को लुटा देता है | नालायक संतान होती है और संतान के भविष्य की चिंता सदैव बनी रहती है |
छठे घर में सोया ग्रह हो तो व्यक्ति लम्बे समय तक बीमार रहता है या बीमार की सेवा करता है | घर में से दवैया ख़त्म होने का नाम नहीं लेती और बीमारी, इलाज, अस्पताल का मुह रोज देखने को मिलता है | अस्पताल में नौकरी या दवाई की फेक्ट्री में ऐसे ही व्यक्ति काम करते देखे गए हैं |
सुप्त ग्रह या सोया ग्रह यदि सातवें घर में है तो शादी के लिए जीवन का एक हिस्सा गुजर जाता है और शादी की तमन्ना भी ख़त्म हो जाती है |
आठवें घर में कोई ग्रह सोया हो तो विदेश में बरसों भटकने के बावजूद व्यक्ति को कुछ प्राप्त नहीं होता | व्यक्ति का मृत्यु से बार बार साक्षात्कार होता है परन्तु उम्र लम्बी होती है |

नौवें घर में सोया ग्रह हो तो बहुत धर्म कर्म करने के बावजूद व्यक्ति को उसका फल नहीं मिलता | पूरी उम्र व्यक्ति धार्मिक रहता है परन्तु पूजा पाठ का पूरा फल कभी नहीं मिलता | भाग्य की जहाँ जरूरत होती है वहां कुछ न कुछ उल्टा हो जाता है | व्यक्ति सफलता से एक कदम हमेशा पीछे रहता है |

दसवें घर का सोया ग्रह व्यक्ति को आलसी बना देता है | या तो नौकरी ऐसी होगी जहाँ समय न कटे या फिर ऐसी जगह व्यक्ति काम करता है जहाँ से भागने को मन करे | व्यक्ति लम्बे समय तक बोरियत महसूस करता है |
ग्यारहवें घर में सोया ग्रह हो तो व्यक्ति का जीवन अशुभ समाचार से भर जाता है | आय इतनी होती है जिससे केवल गुजारा चल सके |
बारहवें घर में सोया ग्रह व्यक्ति की नींद उड़ा देता है | नींद में कमी या दिन में भी नींद जैसी स्थिति होती है | व्यक्ति रोज बुरे स्वप्न देखता है | पैर में बार बार चोट लगती है बल्कि एक ही जगह पर कई बार जख्म होता है | कोई दोस्त या रिश्तेदार षड्यंत्र रचता है जिसमे व्यक्ति फंस जाता है या फिर किसी अपने से बहुत बाधा धोखा होता है | व्यक्ति को अपने साथ होने वाली घटनाओं का अंदेशा नहीं होता |

सोया ग्रह हमेशा सोया ही रहे ऐसा नहीं है परन्तु उसे जगाने के ग्रह योग कुंडली में होने आवश्यक हैं | यदि इस विषय पर पाठकों के कोई सुझाव या प्रश्न हैं तो अपने अवश्य अनुभव भेजें |
अशोक प्रजापति |

 

Source

सोया ग्रह

Image

कभी कभी जन्मकुंडली में अपवाद देखने को मिलते हैं |
हमारे अम्बाला के एक पंडित जी से मेरी बात चल रही थी उनकी जन्मकुंडली में गुरु कर्क राशि में नौवें घर में है | गुरु कर्क राशि में उच्च का होता है | उच्च का गुरु राजयोग बनाता है | यदि केंद्र में उच्च का गुरु में हो तो पञ्च महापुरुष में से एक हंस नामक योग बनता है | इस योग में मकान, वाहन, ऐश्वर्य, यश और प्रतिष्ठा आदि सभी कुछ जातक को उपलब्ध होता है | परन्तु इन सभी चीजों के लिए पंडित जी आज तक तरस रहे हैं | विद्वान हैं इनका गणित अच्छा है ज्ञान की कोई कमी नहीं है परन्तु यह सब होने के बावजूद हंस योग कहाँ खो गया समझ में नही आता |
कुंडली को और ध्यान से देखने पर पता चला की गुरु के अंश भी २१ हैं यानी यहाँ भी कोई कमी नहीं है | गुरु की महादशा आकर चली गई परन्तु कुछ ख़ास फल नहीं मिला |

परन्तु इन बातों का सीधा सा जवाब वैदिक ज्योतिष में है भी नहीं | कम से कम मुझे तो इसका ज्ञान नहीं है | परन्तु यदि लाल किताब में इस विषय में बहुत आसान सा नियम है | यदि कोई ग्रह अकेला है और उस पर किसी ग्रह की कोई दृष्टि नहीं है तो उस ग्रह को सोया ग्रह कहते हैं |
सोया ग्रह उच्च राशि में हो या नीच राशि में, उसका कोई फल जातक को नहीं मिल पाता | सोया ग्रह राजयोग को निगल लेने में सक्षम होता है |
सुप्त ग्रह लग्न में हो तो व्यक्ति अपने शरीर से बहुत परेशान रहता है | या तो बहुत मोटा या बहुत पतला या फिर काय ऐसी हो जाती है कि व्यक्ति सुन्दर लोगों को देखते ही हीन भावना से घिर जाता है |
दुसरे घर में सोया ग्रह हो तो पैसा कितना भी आ जाए उस पैसे का उपयोग व्यक्ति स्वयं नहीं कर पाता | उस पैसे का भोग दूसरे व्यक्ति करते हैं |
तीसरे घर में सोया ग्रह हो तो व्यक्ति हर काम में बुरी तरह असफल रहता है | कोई भी काम बिना रुकावट के नहीं हो पाता | मित्रों से बार बार धोखा मिलता है |

चौथे घर में कोई सोया ग्रह हो तो माता पिता का सुख व्यक्ति को न के बराबर मिलता है | कोई जमीन मकान या प्रापर्टी बरसों तक ऐसे ही पड़ी रहती है उसका कोई उपयोग नहीं हो पाता | न बिकती है न उस पर कोई construction होती है |
पांचवें घर में कोई सोया ग्रह हो तो प्रेम में बार बार धोखा मिलता है | सच्चे प्रेम को तवज्जो नहीं मिलती | पढ़ाई लिखाई भी किसी काम नहीं आती | व्यर्थ में व्यक्ति अपनी मेहनत की कमाई को लुटा देता है | नालायक संतान होती है और संतान के भविष्य की चिंता सदैव बनी रहती है |
छठे घर में सोया ग्रह हो तो व्यक्ति लम्बे समय तक बीमार रहता है या बीमार की सेवा करता है | घर में से दवैया ख़त्म होने का नाम नहीं लेती और बीमारी, इलाज, अस्पताल का मुह रोज देखने को मिलता है | अस्पताल में नौकरी या दवाई की फेक्ट्री में ऐसे ही व्यक्ति काम करते देखे गए हैं |
सुप्त ग्रह या सोया ग्रह यदि सातवें घर में है तो शादी के लिए जीवन का एक हिस्सा गुजर जाता है और शादी की तमन्ना भी ख़त्म हो जाती है |
आठवें घर में कोई ग्रह सोया हो तो विदेश में बरसों भटकने के बावजूद व्यक्ति को कुछ प्राप्त नहीं होता | व्यक्ति का मृत्यु से बार बार साक्षात्कार होता है परन्तु उम्र लम्बी होती है |

नौवें घर में सोया ग्रह हो तो बहुत धर्म कर्म करने के बावजूद व्यक्ति को उसका फल नहीं मिलता | पूरी उम्र व्यक्ति धार्मिक रहता है परन्तु पूजा पाठ का पूरा फल कभी नहीं मिलता | भाग्य की जहाँ जरूरत होती है वहां कुछ न कुछ उल्टा हो जाता है | व्यक्ति सफलता से एक कदम हमेशा पीछे रहता है |

दसवें घर का सोया ग्रह व्यक्ति को आलसी बना देता है | या तो नौकरी ऐसी होगी जहाँ समय न कटे या फिर ऐसी जगह व्यक्ति काम करता है जहाँ से भागने को मन करे | व्यक्ति लम्बे समय तक बोरियत महसूस करता है |
ग्यारहवें घर में सोया ग्रह हो तो व्यक्ति का जीवन अशुभ समाचार से भर जाता है | आय इतनी होती है जिससे केवल गुजारा चल सके |
बारहवें घर में सोया ग्रह व्यक्ति की नींद उड़ा देता है | नींद में कमी या दिन में भी नींद जैसी स्थिति होती है | व्यक्ति रोज बुरे स्वप्न देखता है | पैर में बार बार चोट लगती है बल्कि एक ही जगह पर कई बार जख्म होता है | कोई दोस्त या रिश्तेदार षड्यंत्र रचता है जिसमे व्यक्ति फंस जाता है या फिर किसी अपने से बहुत बाधा धोखा होता है | व्यक्ति को अपने साथ होने वाली घटनाओं का अंदेशा नहीं होता |

सोया ग्रह हमेशा सोया ही रहे ऐसा नहीं है परन्तु उसे जगाने के ग्रह योग कुंडली में होने आवश्यक हैं | यदि इस विषय पर पाठकों के कोई सुझाव या प्रश्न हैं तो अपने अवश्य अनुभव भेजें |
अशोक प्रजापति |

 

Source

Horoscope Matching for Free

Image

Horoscope matching is time consuming task but today when you go to astrologer he just using a software tells you the number of Guna. Guna milan is also necessary but only guna milan cannot help you.

We check the following points in our Horoscope Matching Report

Manglik Dosha Report

1. Manglik Dosha According to Ascendant, Sun, Moon.

2. Intensity of Manglik Dosha.

3. Pariharam for Partial Manglik Dosha

Compatibility Report

1. Compatibility as per Gun Milan

2. Navmansha Horoscope Compatibility Test

3. Ashtakwarga Compatibility Report

4. Nadi Dosha check and Pariharam.

Horoscope Report

1. Seventh house compatibility.

2. 5th House for Children.

3. Job / Career, Health after marriage.

4. The intensity of Jupiter in Female Horoscope.

5. The intensity of Venus in Male Horoscope.

6. The ideal time for your marriage.

Remedies as per your birth chart

1. Suitable gemstone for fruitful married life.

2. Remedies for marriage delay.

3. Remedies / Mantras for early marriage.

4. The helpful mantras for love marriage and to make people in your favor.

5. The effective gemstone for success in love.

All above points analyzed in your

Horoscope Matching Report

The horoscope matching report I send have all above points covered. In addition I send very simple remedies if required.

The process I follow if every astrologer do the same process, then he will be able to attend 5-7  people in a day. So this is not feasible to every astrologer who have crowd in his office.

The cost for Horoscope Matching report is INR 750.

But if you cannot spend money by any reason you can still avail this service. By giving your review on Google places, you can contribute us which is important for us. Just call at 98028 10368 for details.

 

 

Source

Mars in Horoscope

Image

In Mars’s Vimshottri Dasha or time period you learn how to fight against your emotions. Mars is representative of Blood hence affect your blood relations or near & dears. If mars is bad in your horoscope, all your relatives would behave against you and if your Mars is good, all your relatives will favor you.

Mars generates your enemies & Mars’s friend Moon determines who is your friend and who is not. If your ascendant is Aries, Cancer, Leo or Sagittarius, you need not to worry about Mars.

Rest all zodiac signs should take care of every moment when Mars cross their zodiac sign.

If your Mars is not cruel in horoscope this can be lead to accidents in your life. Surgery, accident, blood related diseases, sperm issues are the general things which Mars gives if not in favor. You can save yourself from Mars’s negative effects by donating your blood. Donate your blood if you are fit & able. This is most effective remedy / Pariharam for Mars.

/ Ashok Prajapati

 

 

Source